Friday, August 14, 2009

बोलो बांके बिहारी लाल की जै

***** बोलो बांके बिहारी लाल की जै*****

आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी है. इस अवसर पर अधिकांश लोग व्रत एवं पूजा पाठ करते हैं. मन्दिरों में कीर्तन-भजन होता है. भक्तजन अपनी श्रद्धा का परिचय देते हुए कई घण्टे पंक्तिबद्ध दर्शनार्थ रहते हैं. वृन्दावन, मथुरा और गोकुल में आज के दिन श्रद्धा का सैलाब उमड़ता है. 'बोलो बांके बिहारी लाल की जै' .

मथुरावासी श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में एक दिन पहले से ही नाचते गाते हैं. जहाँ कृष्ण का जन्म हुआ था. रात 12 बजे अष्टमी को जन्म होने के बाद वासुदेव सुरक्षा कारणों से कृष्ण को गोकुल छोड़ आते हैं जहाँ पहुँचते- पहुँचते सुबह के चार बज जाते है. हिन्दु मान्यता के अनुसार 4 बजे बाद नया दिन शुरू हो जाता है. यही कारण है कि श्रीकृष्ण जन्मोत्सव हर साल दो बार मनाया जाता है. 'बोलो जय श्रीकृष्ण' .

श्रीकृष्ण जन्मोत्सव राजकीय और राष्ट्रीय रूप में 'वैष्णव मत ' के अनुसार मनाई जाती है क्योंकि गोकुल निवासी और नन्द जी वैष्णव थे. इस अवसर पर वृन्दावन के भक्त कृष्ण, राधा और गोपियों के खेल करते हैं और झांकियां निकालते हैं . राधा और कृष्ण का प्रेमानुराग इतना अधिक और प्रसिद्ध हुआ कि आज भी राधा-कृष्ण आज भी अलग नहीं हो पाये. 'बोलो राधे-कृष्ण' . वृन्दावन में आज बड़े-बड़े बाबाओं और महात्माओं के आश्रम जगह-जगह देखे जा सकते हैं.

इस अवसर में व्रती भक्त फलाहार करते हैं जिसमें अन्न नहीं खाते हैं. कुछ नमक नहीं खाते तो कुछ सेंधा नमक का उपयोग करते हैं. आलू, साबूदाना, कोटू का आटा आदि से विभिन्न पकवान बनाये जाते हैं. मीठे आहार के रूप में सोंठ, अजवाईन, हल्दी, सूखा अनारियल, चीनी, खाने वाला गोंद, सूखे मेवे आदि मिलाकर प्रसाद 'पजीरी' बनाया जाता है. जिसे सूखे रूप में और मिठाई की तरह बनाकर खाया जाता हैं.

सभी भक्तजनों को जय जन्माष्टमी की शुभकामनाएं. 'बोलो बांके बिहारी लाल की जै'.

4 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत बढ़िया।
श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

मुनीश ( munish ) said...

Jai ho , jai ho, jai ho !

समयचक्र : महेन्द्र मिश्र said...

कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई

विनय ‘नज़र’ said...

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। जय श्री कृष्ण!
---
INDIAN DEITIES