Wednesday, September 16, 2009

हिन्दी की टांग तोड़ते ये अनुवादक

*****हिन्दी की टांग तोड़ते ये अनुवादक *****

अनुवादक का काम होता है मूल लेख का अनुवाद करना. लेकिन अनुवादित बिषय का अर्थ ही बदल जाये तो क्या कहेंगे. ऐसा ही कुछ हुआ मशीन अनुवदित कुछ लेखों में. मशीन अनुवादक अंग्रेजी शब्दों का अनुवाद मात्र करता है जिससे मूल लेख का भावार्थ बदल जाता है. समझ पाना टेड़ी खीर है.

लेख के अंत में लिखा है मशीन अनुवादित शब्दों में

मशीन अनुवाद एक स्वचालित सेवा द्वारा और अनुवाद की सटीकता प्रदान कर रहे हैं नहीं मानव अनुवाद के मानकों करने के लिए कर रहे हैं.  मशीन अनुवाद छोटे या नहीं अंग्रेजी कौशल के साथ लोगों द्वारा उपयोग के लिए प्रदान की जाती हैं.  हम जानते हैं कि लोगों को अंग्रेजी में बल्कि तो मशीन पृष्ठों का अनुवाद अंग्रेजी पृष्ठों का उपयोग प्रवीण की सलाह देते हैं.

इस वेबसाइट के एक लेख से कुछ शब्द

अपने बिजली के मिश्रक, या एक हाथ मिश्रक साथ के कटोरे में, मलाई मक्खन और चीनी मिनट प्रकाश और (2 - 3 फुज्जीदार तक).  जब तक शामिल अंडा और वेनिला निकालने और हरा जोड़ें. शामिल जब तक कद्दू प्यूरी में मारो (इस बल्लेबाज इस बिंदु पर) curdled दिखेगा.  धीरे धीरे, केवल संयुक्त जब तक मिश्रण में आटा मिश्रण जोड़ें. में हिलाओ को काट और सूखे cranberries पेकान toasted.  इस पैन और के बारे में 30 के लिए सेंकना - 35 मिनट या एक दन्तखुदनी सलाखों के केंद्र में प्रवेश कराया तक तैयार में बल्लेबाज फैलाओ बाहर साफ आता है. ओवन और जगह से शांत करने के लिए एक तार रैक पर निकालें. 16 में काट - 2 इंच (5 सेमी) सलाखों.

ऐसी ही एक और वेबसाइट देखने को मिली जिसको यहाँ देखा जा सकता है. ऐसी कितनी ही वेबसाइट है जिनको मशीन अनुवादक की सहायता से वांछित भाषा में देखा और पढ़ा जा सकता है. इस तरह के अनुवाद से जानकारी लेने वाला क्या समझेगा, मेरी समझ से बाहर की बात है.

9 comments:

Anonymous said...

bahut dukh ki baat hai ..

Ram said...

Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

Click here for Install Add-Hindi widget

राज भाटिय़ा said...

अरे यह तो चुटकला ही बन गया...
बहुत अच्छा लगा आप का इस विषय मै हमे बताना, मेने भी कई बार देखा है, लेकिन सोचा नही था कि इस तरह एक पोस्ट भी बन सकती है.
धन्यवाद

रंजना said...

हा हा हा हा.....बहुत ही मजेदार....

यह किसी व्यंजन को बनाने की विधि से सम्बंधित है न ?????

कल्पना कर ही हंसते हंसते लोटपोट हो गए कि यदि इस विधि भोजन बनाया जाये तो क्या होगा......

शरद कोकास said...

भाई मै एडवर्ड सईद पर एक आर्टिकल के लिये मशीन महोदया के पास गया तो उन्होने "EDWARD SAID" का अनुवाद किया "एडवर्ड ने कहा" ... हा हा हा ।

कामोद Kaamod said...

@ रंजना जी- सही समझा आपने. इसमें कद्दू (सीताफल) की रेसिपी बताई गई है. हिन्दी जानने वाला व्यक्ति अगर इसे पढ़्कर खाना बनाने लगे तो ना जाने क्या बनेगा :)

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

:)
चाहे विज्ञान जितनी भी उन्नति कर ले लेकिन मशीन कभी इन्सानी बुद्धि का स्थान नहीं ले सकती!!!

Anonymous said...

बहुत अच्छा मुद्दा उठाया है आपने। कभी हिन्दी विकीपीडिया मे अपने ही देश और कल्चर का अपमान करने वालो तथाकथित हिन्दी सेवको पर भी लिखियेगा। बानगी के लिये यह लिंक देखे। इसमे कैसे भारतीय ग्रंथो का मजाक उडाया गया है अंग्रेजो के विकीपीडिया मे।

http://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B5%E0%A5%80%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AF

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...
मैनें अपने सभी ब्लागों जैसे ‘मेरी ग़ज़ल’,‘मेरे गीत’ और ‘रोमांटिक रचनाएं’ को एक ही ब्लाग "मेरी ग़ज़लें,मेरे गीत/प्रसन्नवदन चतुर्वेदी "में पिरो दिया है।
आप का स्वागत है...